Breaking News
Home / Astrology / इस दिन लग रहा है साल का आखिरी सूर्यग्रहण, भारत में भी पड़ेगा इसका असर

इस दिन लग रहा है साल का आखिरी सूर्यग्रहण, भारत में भी पड़ेगा इसका असर

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते ही है कि ये साल खत्म होने वाला है और नया साल शुरू होने वाला है. एक महीने के बाद नया साल शुरू हो जायेगा. इसके बाद हम अपने पुराने साल को भुलाकर नये साल के बारे में सोचते है. इस साल के सभी सूर्यग्रहण और चन्द्रग्रहण खत्म हो गये है सिवाय साल के आखिरी सूर्यग्रहण के. ये बात तो आप जानते ही है कि साल में 3 सूर्यग्रहण लगते है इसलिए इस साल का आखिरी सूर्यग्रहण 26 दिसम्बर को लगने वाला है. इस साल का पहले सूर्यग्रहण 6 जनवरी को लगा था. पहले 2 सूर्यग्रहणों की अपेक्षा साल का तीसरा और आखिरी सूर्यग्रहण बहुत ज्यादा प्रभाव डालने वाला है. ये बहुत से मायनों में ख़ास भी रहने वाला है. इस तरह का सूर्यग्रहण शायद ही आपने आज से पहले देखा होगा.

साल का तीसरा और आखिरी सूर्यग्रहण देखने में बिलकुल आग की एक अंगूठी की तरह नजर आने वाला है. वैज्ञानिक भी इसे रिंग ऑफ़ फायर का नाम दे रहे है. क्योंकि इस ग्रहण में सूर्य का बीच का ही भाग छाया के क्षेत्र में आता है जबकि सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित रहता है. वैज्ञानिक इस ग्रहण को वलयाकार ग्रहण बता रहे है क्योंकि इसमें सूर्य पर पूरी तरह से ग्रहण नही लगता है.

किन किन जगहों पर दिखेगा साल का आखिरी ग्रहण 

ये सूर्यग्रहण इस साल का सबसे लास्ट ग्रहण है. ये भारत, सऊदी अरब, कतर, इंडोनेशिया, श्रीलंका, सुमात्रा, मलेशिया, फिलीपिंस, सिंगापुर और गुआम में नजर आने वाला है. इसके अलावा एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रिका के अन्य हिस्सों में भी दिखाई देगा. साल का ये अंतिम सूर्यग्रहण 25 दिसम्बर को शाम 5 बजकर 32 मिनट पर शुरू हो जाएगा. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब ये ग्रहण लग जायेगा तो आप कोई भी शुभ काम शुरू नही कर सकते है. यहाँ तक ग्रहण लगने के बाद मंदिर के सभी दरवाजे भी बंद कर दिए जाते है.

ग्रहण लगने के बाद कोई भी धर्मिक काम नही किया जाएगा. सूर्य ग्रहण 25 दिसम्बर से शुरू होकर अगले दिन 26 दिसम्बर की शाम 7 बजकर 53 मिनट से शुरू होकर रात के 1 बजकर 35 मिनट तक रहने वाला है. ऐसा माना जाता है कि जब सूर्यग्रहण लगता है तो उससे कुछ हानिकारक किरने भी निकलती है. इसलिए इस समय बच्चो बुढो को घर से बाहर नही निकलना चाहिए. सबसे ज्यादा ये ये किरने जिसपर अपना सबसे ज्यादा प्रभाव डालती है वह है गर्भवती महिलाएं. गर्भवती महिलाओं को इस समय अपने घर में ही रहना चाहिए. इससे उनके बच्चे पर असर पड़ सकता है. इसलिए सूर्य ग्रहण के समय वे घर से बाहर न जाए.

साल में वैसे तो 3 सूर्यग्रहण और 2 चन्द्रग्रहण दिखाई दिए है लेकिन ये साल का सबसे बड़ा और आखिरी ग्रहण है. जोकि भारत के अलावा अन्य देशो में भी दिखाई देने वाला है. इसलिए इस ग्रहण के लगने पर कोई भी शुभ काम करना अपशगुन कहलाता है. इस ग्रहण के समय कोई भी पूजा पाठ हवन यज्ञ या फिर शादी करना अशुभ माना जाता है. इस दिन कोई भी शुभ काम आप न ही करे तो आपके लिए सबसे ज्यादा सही है.

About Rani

Check Also

22 नवंबर 2019 राशिफल: शुक्र ग्रह के परिवर्तन से सभी 12 राशियों पर पड़ेगा इसका असर

मेष राशि- शुक्र का धनु राशि में प्रवेश होने की वजह से इन जातकों के …